दुनिया से 197 भाषाएं हो रही हैं विलुप्त

दिल्ली।दुनिया में अपनी भाषाओँ का अलग ही अहम दिया गया हैं. बतादें कि शुक्रवार को देसी भाषाओँ का अंतरराष्ट्रीय दिवस मनाया गया.जहां करीब पूरी दुनिया में 7,000 भाषाएं सिद्ध हुई हैं.जहां इन्ही भाषाओं से कई अलग भाषाओं का निर्माण होता हैं.खबरों के मुताबिक भारत में अभी लगभग 450 जीवित भाषाएं हैं. देश की यह समृद्ध भाषाई विरासत गर्व करने लायक है. लेकिन चिंता की बात है कि हमारे देश की 10 भाषाएं ऐसी हैं जिसके जानकार 100 से भी कम लोग बचे हैं. इन भाषाओं में ज्यादातर भाषाएं मूल निवासियों द्वारा बोली जाती हैं, लेकिन ये भाषाएं खतरनाक ढंग से विलुप्त होती जा रही हैं.

वहीं 81 भारतीय भाषाओं की स्थिति बहुत अच्छी नहीं है. जिसमें मणिपुरी, बोडो, गढ़वाली, लद्दाखी, मिजो, शेरपा और स्पिति शामिल हैं. लेकिन ये सभी भाषाएं अभी ‘कमजोर’ की श्रेणी में हैं. इनको बचाए रखने के लिए संगठित प्रयास करने की जरूरत है. देखा जाये तो दुनिया की खतरे में पड़ी भाषाओं के यूनेस्को एटलस के ऑनलाइन चैप्टर के मुताबिक भारत की 197 भाषाएं ऐसी हैं जो असुरक्षित, लुप्तप्राय या विलुप्त हो चुकी हैं.विलुप्त हो रही भाषाओं में अहोम, एंड्रो, रंगकास, सेंगमई, तोलचा व अन्य शामिल हैं. ये सभी भाषाएं हिमालयन बेल्ट में बोलीं जाती हैं. जहां दुनिया की करीब 97 फीसदी आबादी इनमें से सिर्फ 4 फीसदी भाषाओं की जानकारी रखती है, जबकि दुनिया के केवल 3 फीसदी लोग बाकी के 96 फीसदी भाषाओं की जानकारी रखते हैं.

दरअसल मूल निवासियों द्वारा बोली जानेवाली हजारों भाषाएं विलुप्त होने के कगार पर हैं. इंटरनेशनल ईयर ऑफ इंडिजीनियस लैंग्वेज (आईवाईआईएल) यानी देसी भाषाओं के अंतर्राष्ट्रीय दिवस पर विशेषज्ञों ने कहा कि हमें सदियों पुरानी भाषाओं को विलुप्त होने से रोकने की जरूरत है.